शाला दर्पण पर उपयोगिता प्रमाण पत्र अपलोड और वेरीफाई करने की प्रक्रिया देखें

0
425

राजस्थान राज्य में मौजूद स्कूलों के विकास हेतु दानदाताओ gyan sankalp portal donate to school और सार्वजनिक क्षेत्र की कम्पनियों, कारपोरेट,गैर सरकारी संगठन एवं निजी क्षेत्र की कम्पनियों द्वारा भौतिक संसाधन उपलब्ध करवाने हेतु सहयोग किया जाता है. चुकी यह प्रक्रिया

स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा राजकीय विद्यालयों में मौतिक संसाधन उपलब्ध कराने में विभिन्न सार्वजनिक क्षेत्र की कम्पनियों, कारपोरेट,गैर सरकारी संगठन एवं निजी क्षेत्र की कम्पनियों से दान लेने हेतु शाला प्रमाण पत्र पोर्टल जैसी ही तकनीकी रूप से अच्छी वेब सर्विस बनाई गयी है.

ज्ञान संकल्प पोर्टल पर डोनेट कैसे करें ?

जहा shaladarpan portal पर ज्ञान संकल्प से जुड़े लिंक पर upyogita praman patra सहित व्यक्तिगत दानदाता व भामाशाहों को सहायता प्रदान करने में भौगोलिक दूरी की कठिनाईया को दूर करते हुए एक ऑनलाईन प्लेटफॉर्म ज्ञान संकल्प पौर्टल (www.gyansankalp.nic.in) तथा कोष मुख्यमंत्री विद्यादान कोष को 05 अगस्त 2017 से संचालन किया जा रहा है।

ज्ञान संकल्प पोर्टल के माध्यम से राजकीय विद्यालयों के विकास हेतु Donate to A School श्रेणी के अन्तर्गत ऑनलाईन व ऑफलाईन माध्यम से 11 करोड़ से अधिक राशि प्राप्त हो चुकी है। जिसका लगभग 96 प्रतिशत राशि विद्यालयों के एसडीएमसी / एसएमसी खातों में हस्तान्तरित की जा चुकी है।

अब इस राशि का उपयोगिता प्रमाण-पत्र विद्यालयों के द्वारा राजकीय विद्यालय शाला दर्पण पोर्टल पर shala praman patra अपलोड तथा ब्लॉक स्तर से उसे वेरिफाई करने की प्रक्रिया की जा रही है। अभी वर्ष 2017-18, 2018 19 उपयोगिता प्रमाण पत्र अपलोड किये जाने है तथा ब्लॉक स्तर से वैरिफाई किया जाना है।

वर्ष 2017-18, 2018-19 व 2019-20 की उपयोगिता प्रमाण-पत्र अपलोड करने से हेतु पूर्व तैयारी

शाला दर्पण पर उपयोगिता प्रमाण पत्र अपलोड करने से पूर्व की तैयारी?

Time needed: 10 minutes.

शाला दर्पण पर यह प्रक्रिया पूर्ण करनी होती है जिसके विभिन्न पद है जो आगे आने वाले है. पेज को स्क्रोल करते हुए पुरि जानकरी देखें. सर्व प्रथम शाला दर्पण वेबसाइट खोल कर लॉग इन करे और उसके बाद के सारे स्टेप्स भली भांति फॉलो करें

  1. अनुदानित राशी

    इसके लिए आपको स्कूल लॉग इन करके स्कूल के लिंक पर जाकर ज्ञान संकल्प का विकल्प चुनकर उसमे से डोनेशन की राशी को भामाशाह के अनुसार चेक करने की सुविधा मिलेगी.
    Shaladarpan -> School Login -> School -> GYAN SANKALP PORTAL -> Donation Details Received Through Gyan Sankalp Portal

  2. राशी विवरण

    तत्पश्चात आपको दुसरे लिंक की तरफ रुख करना होगा जिसमे आपको पहले चरण में प्रपात होने वाली राशी का विवरण तथा राज्य कार्यालय द्वारा हस्थानान्तरित की हुई राशि को अपनी बेंक पासबुक में मिलान करने के लिए अपनी बैंक पासबुक अपडेट करवाके मेच कर लेवे.
    Shaladarpan -> School Login -> School -> GYAN SANKALP PORTAL -> GSP Donation Received School Confirmation.

  3. बैंक पास बुक मिलान

    यदि आपको शाला दर्पण में राज्य स्तर पर दिखने वाली राशी आपके बैंक रिकॉर्ड में शो नहीं हो रही है तो तुरंत [email protected] को ईमेल कर अपनी पासबुक की फोटो मेल करके अवगत करावे. ताकि इस राशी के लेन देन का वेरिफिकेशन हो सके.

  4. राशी मिलान नहीं होने पर

    हस्थानतरित राशी और बेंक खाते का मिलान यदि नहीं हुआ है तो रुके जाएँ और उपयोगिता प्रमाणपत्र अपलोड नहीं करें. और यदि मिलान हो चूका है तो आगे बढ़ें

  5. अधिकारियो द्वारा कार्य की प्रगति

    ब्लाक जिला और राज्य स्तरीय अधिकारियो के पास मौजूद एडवांस रिपोर्ट्स में इस कार्य की मोनिटरिंग सुनिश्चित की जाएगी जिसके लिए उन्हें निम्न पाथ फॉलो करना रहेगा.
    Shaladarpan -> Management -> Gyan Sankalp Portal -> GSP UC Monitoring
    Report रिपोर्ट देखें और कार्य की प्रगति को मॉनिटर करते रहें. किसी भी तरह की प्रॉब्लम फेस होने पर उच्च स्तर पर सूचित करें.

उपयोगिता प्रमाण-पत्र अपलोड करने की प्रक्रिया

प्रत्येक विद्यालय को राज्य स्तर से हस्तान्तरित राशि को व स्कूल के बेंक स्टेटमेंट ( बेंक अकाउंट) में प्राप्त राशि का मिलान करना अनिवार्य है, उसके बाद जो भी राशी प्राप्त हुइ है उसके खर्चे का विवरण को लिस्ट करने के लिए प्राप्त राशि को दिनांक व मद वार रिकॉर्ड में ऐड करके वाउचर विवरण सहित खर्चा कंप्यूटर में एक्सेल शीट में भरना है.

अब इसे 2017-18 ya 2018-2019 या 2019-2020 कि भांति वर्ष अनुसार प्राप्त राशि व मद वार खर्च का विवरण डाउनलोड कर ले ताकि इसका बेंक डायरी अथवा पासबुक से मिलान हो सके.

प्राप्त राशी का मिलान अपने स्कूल के खातों से जांच करके ही सुनिश्चित किया जाये और आवश्यकता होने पर संशोधन कर पुनः जांच कर पुष्टि करें. एक बार सही मिलान की प्रक्रिया हो जाये तो एक वर्ष के लिए यू.सी. फाइल डाउनलोड करना।

केशियर की भूमिका

तत्पश्चात स्कूल में केशियर का कार्यभार वाले कर्मचारी और शाला के संस्था प्रधान के हस्ताक्षर इस मिलान वाले डॉक्यूमेंट पर करवाकर इसकी पीडीएफ बना कर इस फाइल को शाला दर्पण पर अपलोड करना है। और साथ ही काॅपी का प्रिंट आउट हस्ताक्षरित कर के निकटतम ब्लाॅक कार्यालय भिजवाया जाए।

ब्लाॅक कार्यालय में भी सम्बंधित अधिकारी द्वारा से शाला दर्पण लाॅगिन कर स्कूल द्वारा अपलोड कि हुई पीडीऍफ़ और पर हस्ताक्षरित काॅपी का डाटा मिलान कर वेरिफाई की जाये।

उपयोगिता प्रमाण पत्र सबमिट करने की प्रक्रिया

Shaladarpan -> School Login -> School -> GYAN SANKALP PORTAL -> GSP Amount Expenditure Entry इस लिंक के माध्यम से राज्य स्तर को प्राप्त विद्यालय द्वारा वेरीफाई की गई राशी प्रदर्शित होती है.इस पेज पर सबसे पहले वर्ष 2017-18 के दौरान डोनेट टू ए स्कूल की आमद में खर्च की गई रकम को दिनांक सहित अंकित करना है. और सबमिट करना होगा.

इसके बाद Shaladarpan -> School Login ->School -> GYAN SANKALP PORTAL -> GSP Amount UC Generation पर जाकर उपयोगिता प्रमाण पत्र बनवाकर उसके प्रिंट आउट पर हस्ताक्षर करके पीडीऍफ़ बनाके अपलोड करनी है.

जाने ब्लाक कार्यालय द्वारा उपयोगिता प्रमाण पत्र को वेरीफाई कैसे करना है ?

ब्लाक कार्यालय में स्कूल द्वारा भेजे गए उपयोगिता प्रमाण पत्र की एक सॉफ्ट कॉपी आपको ऑनलाइन शाला दर्पण में सीबीओ लॉग इन करने पर दिखाई देगी. यह कार्य 7 दिनों में करना होता है. क्यों कि एक वर्ष का उपयोगिता प्रमाण पत्र वेरीफाई होने पर ही अगले वित्तीय वर्ष के डॉक्यूमेंट अपलोड किये जा सकेंगे.

आपको आगे दिए गए shala darpan शाला दर्पण पर होमपेज से निम्न पाथ Shaladarpan -> Management -> Gyan Sankalp Portal -> GSP UC Verification से जाकर शाला दर्पण विद्यालय विवरण से ज्ञान संकल्प वाला वेरिफिकेशन एक्सेप्ट या रिजेक्ट करना है.

उपयोगिता प्रमाण-पत्र अपलोड और वेरिफिकेशन का प्रोसेस यहाँ से देखें

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here