किसानो के हितैषी हनुमान बेनीवाल का भाजपा से गठबंधन तोड़ने का ऐलान

0
216

रालोप पार्टी के मुखिया हनुमान बेनीवाल का भाजपा से गठबंधन तोड़ने का ऐलान कर अपनी बात पर कायम रहे. उन्होंने अपनी शाहजहाँपुर की रैली में यह कठिन निर्णय लिया जिसमे उन्होंने भारत सरकार द्वारा लाये गए कृषि बिलों के विरोध में अपनी RLP पार्टी को सत्ताधारी गठबंधन NDA से अलग करने का ऐलान कर दिया.

अपने तमाम आलोचकों को धता बताते हुए सत्ता मोह त्याग कर राजस्थान के इस जाट नेता ने NDA छोड़ने के ऐलान के साथ ही कुछ बहुत बड़ी बात भी कह डाली जिसमे उन्होंने अपना गठबंधन कांग्रेस के साथ नहीं करने की बात कही. हनुमान बेनीवाल को सिद्धांतो से समझोता नहीं करने के लिए जाना जाता है.

सरकार पर आरोप जड़ते हुए उनकी कोरोना रिपोर्ट करने का आरोप भी लगाया जिस पर भाजपा के मंत्री टीवी स्टूडियो में बयान देते हुए कोरोना टेस्टिंग में किसी तरह की गलती नहीं होने की बात कहते हुए और ICMR के प्रोटोकॉल्स की बात कहते नजर आये.

यहाँ पर गौर करने वाली बात यह रही कि एक दफा दिल्ली कूच करने की बात कह कर जब वो कुछ दिन पहले अपने परिवार के साथ नागौर में नजर आये तब आलोचक लगातार उनसे गठबंधन तोड़ने की बात कहते नजर आये जिस पर उन्होंने आज दिनांक 26 दिसम्बर 2020 को महत्वपूर्ण निर्णय लेने की बात कही थी.

हनुमान बेनीवाल इकलौते ऐसे नेता हैं जो ना केवल अशोक गहलोत बल्कि वसुंधरा राजे पर भी हमलावर होते रहे हैं और जनमानस से जुडी हर समस्या पर प्रशासन और सरकार को झकझोरते रहते हैं. उनकी छवि इस फैसले से और सुधरी है और किसानो को उनसे अब और सपोर्ट मिलने के आसार हैं.

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here