आज दिनांक 21 दिसम्बर 2020 को भारत में ब्रिटेन में कोरोना वायरस का नया स्ट्रेन मिलने की खबर पर दुनिया भर में मची हलचल को लेकर इसका संज्ञान लेते हुए ब्रिटेन से आने वाली फ्लाइट्स पर 31 दिसम्बर तक के लिए रोक लगा दी गई है.

पूरी दुनिया जहा एक तरफ कोरोना से उबरते हुए दिखाई पड रही थी और वैक्सीन के प्रोग्राम भी कई देशो में व्यापक स्तर पर शुरू किये जा चुके थे वही अब इस कोरोना के नए स्ट्रेन ब्रिटेन समेत कई और देशो में मिलने के बाद अभी के लिए फिर से यह रेस 0 से स्टार्ट करनी पड़ सकती है.

चूँकि यह वायरस अपनी बुनियादी तकनीक के फलस्वरूप मानव कोशिकाओ से चिपकनेके बाद शरीर में घुस कर अपनी कई कॉपी बनता है और इंसानी शरीर के महत्वपूर्ण अंगो को प्रभावित करता है. इसके कॉपी करने के प्रोसेस में किसी तरह की गड़बड़ी होने पर यह कभी कभार भयंकर रूप भी ले लेता है.

बताया जा रहा है की कोरोना के अब तक तकरीबन 6 स्ट्रेन खोजे जा चुके हैं वही कई और स्ट्रेन (जिन्हें म्यूटेशन भी कहा जाता है) और मिलने की सम्भावना से इनकार नहीं किया जा सकता है. प्रसिद्द वेबसाइट साइंस डेली के अनुसार अब तक कोरोना वायरस के स्ट्रेन (different strains of coronavirus) के अनुसार S, G, GH, GR, L और V प्रमुख है.

पूरा यूरोप इसे लेकर सावधानी बरत रहा है और इसके फैलाव क्षमता भी कोरोना से करीब 70% अधिक बताई जा रही है. लन्दन में जहा इसका असर बहुत अधिक फैला है वही इटली नीदरलेंड डेनमार्क और ऑस्ट्रेलिया और दक्षिण अफ्रीका में भी यह स्ट्रेन पाया गया है.

इस पर चर्चा के लिए भारत में संयुक्त निगरानी समूह की बैठक होने जा रही है और भारत के स्वास्थ्य मंत्रालय और अधिकारी इसमें हिस्सा लेंगे. और कई और महत्वपूर्ण फैंसले लिए जा सकते हैं.

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here