दिलीप छाबड़िया DC मोटर्स

मशहूर कार डिज़ाइन करने वाले दिलीप छाबड़िया की कल रात गिरफ्तारी हुई है उन्हें खुफिया विभाग जो कि मुम्बई क्राइम ब्रांच के अंतर्गत आता है, द्वारा धोखाधड़ी और फर्जीवाड़े के आरोप में धरा गया है।

उन पर लगे आरोपों पर प्रकाश डालते हुए मुम्बई क्राइम ब्रांच ने बताया कि उन्हें IPC भारतीय दंड संहिता की धाराओं के तहत गिरफ्तार किया गया और अवैध तरीकों से गाड़ियों का रजिस्ट्रेशन करवाने का आरोप लगाते हुए कुछ धाराओं के उल्लेख भी किया।

IPC की विभिन्न धाराओं 420, 465, 467, 468, 471, 120 (बी) और 34 के तहत दर्ज मामले में दिलीप छाबड़िया को पकड़ा गया है. इन धाराओं पर गौर करें तो DC डिज़ाइन के मालिक दिलीप छाबड़िया पर धोखाधड़ी करने, आमजन के साथ फर्जीवाड़ा, लोगों भरोसा तोड़ कर बदनीयती से आर्थिक नुकसान पंहुचाने और आपराधिक साजिश रचने के फलस्वरूप ऐसा मामला दर्ज हुआ बताया गया है.

पुलिस ऐसा पूरा रैकेट को खोजने में जुट गई है जो लोग फॉर व्हीलर्स के रजिस्ट्रेशन डॉक्यूमेंट्स में फर्जीवाड़ा करके डिज़ाइनर गाड़ियों को रजिस्टर्ड करवाते हैं और आजकल जिस प्रकार से गाड़ियों के रजिस्ट्रेशन में ऑनलाइन वेरिफिकेशन की प्रक्रियाओं का पालन किया जा रहा है, उनके चलते ही ऐसे फर्जी वाड़े सामने आए हैं।

मुम्बई क्राइम ब्रांच ने महंगी डिज़ाइनर कार जब्त करी है, जो तकरीबन 75 लाख रुपये कीमत वाली मानी जा रही है. उक्त कार किसी इंदरमल रमानी के नाम पर रजिस्टर्ड है जिसमे तमिलनाडु रीजनल ट्रांसपोर्ट ऑफिस का नाम सामने आ रहा है। जल्दी ही इस बारे में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस का आयोजन किया जाएगा।

दिलीप छाबड़िया की बात करें तो काफी समय से वो कारों का रूप बदलकर उन्हें प्रीमियम लुक देने में माहिर हैं और एक आम सी दिखने वाली गाड़ी को भी अच्छा लुक देते है। भारत की प्रथम स्पोर्ट्स कार भी दिलीप छाबड़िया द्वारा ही बनाई हुई बताई जाती है वहीं इन पर टार्जन द वंडर कार नामक फिल्म भी बॉलीवुड में बन चुकी है।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here