देवेन्द्र फडनवीस और संजय राउत की मीटिंग के सियासी कयास

0
224

उद्धव ठाकरे को भी इस बात की जानकारी थी ।

अकाली दल के NDA छोड़ने के बाद से जारी सियासी उठापटक के बीच महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडनवीस और शिवसेना के बीच हुई मुलाक़ात के कई सियासी मतलब निकाले जा रहे हैं. इसी बीच संजय राउत ने इस मुलाकात को लेकर अपने विचार व्यक्त किये हैं.

शिवसेना के नेता श्री संजय राउत से जब इस बाबत सवाल पुछा गया तो उन्होंने बेबाकी जवाब दिया. उन्होंने कहा कि जो मीटिंग लग्जरी होटल में हुई वो केवल सामना पत्रिका हेतु देवेन्द्र फडनवीस का इंटरव्यू लेने के लिए हुई थी. इसका और कोई सियासी मतलब नहीं है.

मशहूर न्यूज़ वेबसाइट The Quint के हवाले से आज दिनांक 27 सितम्बर को ‘Meeting With Fadnavis Not Political’: Raut Dismisses Speculations शीर्षक से इस खबर की पुष्टि की गई

उन्होंने साथ ही यह भी कहा कि देवेद्र फडनवीस से मिलना कोई जुर्म है क्या ? मैं सामना पत्रिका में बाईट लेने के लिए पहले शरद पंवार से मिल चूका हूँ और आने वाले दिनों में राहुल गाँधी से और आगे अमित शाह से भी मिलूँगा. साथ ही उन्होंने इस बात पर भी जोर दिया की इनसे मिलना कोई पाप नहीं है.

राउत ने बैठक के बाद कहा, देवेंद्र फडणवीस हमारे दुश्मन नहीं हैं। हमने उसके साथ काम किया है। मैं सामना के लिए इंटरव्यू के लिए फडणवीस से मिला था। यह बैठक पहले से तय थी।

संजय राउत के सवाले से कहा गया कि देवेन्द्र फडनवीस से उनके सियासी मतभेद हो सकते हैं इसका मतलब ये नहीं कि वो किसी से केवल इस बात के लिए मिला छोड़ दे क्युकी वो सियासी पार्टी में हमारा समर्थन किसी दूसरी पार्टी को दिया हुआ हैं.

बहरहाल संजय राउत और देवेन्द्र फडनवीस के बीच जुबानी जंग पिछले कुछ समय से जारी है और जब से सुशांत सिंह मर्डर केस को लेकर शिव सेना पर एक तरफा कार्यवाही का दबाव देकर कंगना राणावत के खिलाफ बदले की भावना से हो चाहे रिया चक्रवर्ती का बचाव सवालो के कटघरे में खड़ा कर रहा है.

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here