मुंबई पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह द्वारा कल दिए गए रिपब्लिक टीवी के खिलाफ बयान के बाद अर्नब गोस्वामी के चेनल रिपब्लिक द्वारा सफाई पेश किये जाने पर उपजे विवाद पर अब मुंबई पुलिस का भी अधिकारिक बयान आया है. जिसमे कहा गया है कि एक स्वतंत्र गवाह ने रिपब्लिक टीवी का नाम लिया है.

इस जल्दबाजी में पुलिस कमिश्नर ने कही पर भी india today ग्रुप का नाम लेना उचित नहीं समझा. वही टीवी चेनल्स में घमासान मच गया है. कल जहा सरे न्यूज़ चेनल्स अर्नब गोस्वामी के चेनल की खबर को प्रमुखता से जगह डे रहे थे. वही देर शाम अर्नब गोस्वामी एक बयान देकर सनसनी फैला दी.

अर्नब गोस्वामी ने कहा कि दर्ज fir में india today का नाम था तो मुंबई पुलिस ने उनका नाम मेंशन क्यों नहीं किया. और साथ ही FIR कि प्रति को भी साझा कर दिया. उसके बाद तथाकथित राष्ट्रवादी लोगो ने परमबीर सिंह से जुड़े पुराने विवादों को हवा दे दी जिसमे बम धमाको की आरोपी प्रज्ञा ठाकुर द्वारा दिए बयान के विडियो साझा होने लगे.

रेपब्लिक टीवी द्वारा पुलिस कमिश्नर पर आरोप लगाया गया कि सुशांत सिंह मर्डर मामले में जब चेनल ने परमबीर सिंह की कार्यशैली पर सवाल उठाये थे उसके बदले की भावना से परमबीर सिंह ने यह प्रेस कांफ्रेस कर रिपब्लिक को निचा दिखने की कोशिश की है और अब चेनल उन पर भी मन हानि का दावा ठोकने के मूड में है.

आज मुंबई पुलिस की तरफ से जिस FIR की कॉपी से विवाद उपजा उस पे जवाब देने के लिए जोइन्ट कमिश्नर ( क्राइम ) से मिलिंद भाराम्बे सामने आये और कहा कि हंसा की प्राथमिकी में india today का नाम था लेकिन जो व्यक्ति गिरफ्तार हुआ उसके बयान और पूछताछ के आधार पर 3 चेनल्स इस मामले में दोषी पाए गए हैं.

पुलिस की माने तो जो सबूत मिले वो भी रिपब्लिक टीवी वक्त मराठी और बॉक्स सिनेमा के दोषी होने की तरफ इशारा कर रहे हैं.

कुलमिला कर हम कह सकते हैं कि यह पूरा मामला जहाँ राजनीती से प्रेरित है जिसमे अर्नब गोस्वामी एक पार्टी का पक्ष लेकर दूसरी पार्टी पर सवालिया निशान लगा रहे हैं वही मुंबई पुलिस भी पाक साफ़ नजर नहीं आ रही है और india today को बचाने के प्रयास लगाये जा रहे हैं.

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here