रिपब्लिक टीवी पर लगा TRP खरीदने का आरोप

0
227

मुम्बई पुलिस कमिश्नर परमवीर सिंह ने बताया की टेलीविजन पर चल रहे न्यूज़ चैनल ने trp सिस्टम में सेंध लगाते हुए इसे पैसे देकर खरीदने के आरोप में 2 क्षेत्रीय चैनल के मालिकों को पकड़ा है। वही रिपब्लिक टीवी के मालिक को भी तलब किया जा रहा है।

इस खबर के चलते ही tv मीडिया में आग लग चुकी है और आजतक इंडिया टुडे ग्रुप और ndtv चैंनल के ट्वीटर हैंडल से एक के बाद एक ट्वीट कर सत्यमेव जयते कहा जा रहा है। जबकि आज ही एक अन्य खबर में सुशांत सिंह राजपुत मर्डर के सिलसिलेमव फेक न्यूज़ चलाने पर आज तक चैंनल पर 1 लाख रुपये का जुर्माना ठोका गया है। और अपने चेनल पर एक माफीनामा कबूल करने के आदेश दिए गए है।

एक फेक टीआरपी (FAKE TRP) रैकेट का पर्दाफाश होने के साथ ही तीन चेनलो जिसमे बॉक्स सिनेमा, वक्त मराठी चेनल दोनों मराठी है और रिपब्लिक टीवी जो कि पिछले काफी दिनों से विवादों में गिरा हुआ था. ये सभी चेनल्स पैसा देकर टीवी में trp सिस्टम पैसा देकर trp अपने नाम करवाती थी और भारी पैसा लेकर advertisement के जरिये कमाती थी.

मुंबई पुलिस ने ऐसे चैनल के खातों की जांच करने और रकम के बारे में और पता लगाने के सिलसिले में और पूछताछ कर सकती है. दरअसल टीआरपी को कैलकुलेट के लिए अधिकृत एजेंसी BARC है. और बार्क से जुड़ी हंसा नाम की एजेंसी इस समय राडार पर चल रही है.

भारत में तकरीबन में 3000 से ज्यादा पैरामीटर्स और विशेषकर मुंबई ही 2000 पैरामीटर्स के कामकाज ARC से जुड़ी एजेंसी हंसा के जिम्मे आता था और यही एजेंसी इस टीआरपी सिस्टम के साथ छेड़छाड़ कर इन चेनल्स को फायदा दिलवा रही थी. 

कुछ घरो में संवेदनशील पैरामीटर्स इनस्टॉल किये हुए थे जिनसे डाटा लेकर डेटा को किसी चैनल विशेष के साथ शेयर कर उस से टीआरपी को बदल दिया जाता था. और ऐसे घरो में इन तीन चेनल्स लगाकर छोड़ने को कहा गया ताकि इसका फर्क इन चेनल की TRP पर पड़े. ऐसे काम के बदले लोगो को टीवी चालू रखने के भी पैसे दिए जाते थे.

उक्इत सन्सदर्भ में मुंबई पुलिस द्वारा अब तक 4 लोगो को हिरासत में लेकर और अदालत में पेश किया गया है. और अब तक बॉक्स सिनेमा और वक्त मराठी चेनल पर कार्यवाही कर दी गई वही मुंबई पुलिस का कहना है कि रिपब्लिक टीवी पर भी कारवाही की जाएगी.

अभी तक पुलिस द्वारा 20 लाख रुपये जमा किया हुआ एक अकाउंट ध्यान में आया है जिसे सीज किया है और पूरी मनी ट्रेल का पता लगाने के उद्देश्य से आगे की कार्यवाही की जा रही है. इन रेकेट से जुड़े आदमी के पास से 8 लाख बरामद किया है और बैंक लॉकर से भी कुछ रिकवरी बताई जा रही है.

भारतीय दंड सहिता की धारा 409, 420 IPC के तहत केस दर्ज कर दिया गया है. और आशा के अनुरूप ही रिपब्लिक टीवी ने अपने चेनल पर इस मामले से जुडी कोई भी खबर नहीं दिखाई है. वही दुसरे न्यूज़ चेनल पानी पी पी कर रिपब्लिक टीवी को कोस रहे हैं.

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here